आटा चक्की चलाने के लिए कितने सोलर की आवश्यकता होती है ?

सबसे बड़ा सवाल आटा चक्की को सौर उर्जा पर चला सकते है सबसे बढ़िया सदाबहार बिजनेस की बात करे तो आटा चक्की का बिजनेस है हर घर की जरुरत है आटा, आटा नही तो कुछ नहीं | सबसे बड़ी समस्या है इसमें बिजली का बिल बहुत ज्यादा आना जितनी कमाई नहीं उससे कई गुणा ज्यादा बिजली का बिल भरना पड़ता है क्या इसका कोई समाधान नही है ! इसका समाधान है सौर उर्जा :-

आटा चक्की को सोलर से क्यों चला रहे है:-

जहाँ पर बिजली है:-


10 HP चक्की का 1 महीने का बिजली का बिल 18000 से 20000 रु. तक आटा है| जितनी चक्की से कमाई नहीं होती है उससे ज्यादा बिल भरना पड़ता है| बिल को कम करने के लिए सोलर लगा रहे है|

जहाँ बिजली नहीं है:-


जहाँ पर बिजली नहीं है वहाँ पर चक्की को इंजिन से चला रहे है, इंजिन से चला रहे है| इंजिन में 1 घंटे की डीजल खपत 2 लीटर होती है| 10HP चक्की 1 घंटे में 150 रु. का डीजल खाती है| और 1.25 क्विंटल पिसाई करती है| जो कि लगभग 150 रु. का है| यानि का कमाई से ज्यादा डीजल इसलिए लोग सोलर लगा रहे है|
कौनसी चक्की सोलर पर सफल चल सकती है|

कितनी क्षमता तक की चक्की चला सकते है |


स्टोन वाली चक्की 3HP से 20HP तक सोलर पर चला सकते है|
स्टोन लेस 1HP से 5HP तक सोलर विद्युत् बैटरी से चला सकते है|

1HP, 3HP,5HP,10HP,15HP, व 20HP आटा चक्की को चलाने के लिए क्या क्या चाहिए

आपको चक्की चलाने के लिए आवश्यकता है सोलर पैनल, VFD | आपके पास यह है तो आप आसानी से अपनी चक्की चला सकते है| यह सिस्टम पूरा बिना बैटरी वाला यानि ऑन ग्रिड होता है इसमें नेट मीटरिंग की जरुरत नही पड़ती है

आइये समझते है 1-1 करके, सबसे पहले VFD के बारे में जानते है :-

VFD or AC Drive क्या है ? यह कैसे काम करता है ?

एक चर आवृत्ति ड्राइव (VFD – Variable-Frequency Drive ) एक प्रकार का मोटर नियंत्रक है जो विद्युत मोटर को आपूर्ति की जाने वाली आवृत्ति और वोल्टेज को अलग करके एक विद्युत मोटर चलाता है। 

VFD के अन्य नाम चर गति ड्राइव, समायोज्य गति ड्राइव, समायोज्य आवृत्ति ड्राइव, AC ड्राइव, माइक्रोड्राइव  है। 

VFD का उपयोग छोटे उपकरणों से लेकर बड़े उपकरणों तक के अनुप्रयोगों में किया जाता है। दुनिया की विद्युत ऊर्जा का लगभग 25% औद्योगिक अनुप्रयोगों में इलेक्ट्रिक मोटर्स द्वारा खपत किया जाता है।


दोस्तों यहाँ पर VFD का कार्य RPM = Revolutions Per Minute ( यानि मोटर का रोटर 1 मिनट में कितनी बार घूम रहा है ) यह RPM व Voltage को कम ज्यादा करने के लिए काम आती है | इसका मुख्य काम सोलर से आ रहे DC करंट को AC में बदलना व RPM को कब्जे में रखना, क्योंकि हमेशा धुप एक जैसी नहीं रहती है, कभी कम तो कभी ज्यादा होती है| और इधर इलेक्ट्रिक मोटर को बराबर वोल्टेज नही मिलने पर मोटर सही से नही चल सकती है ||

VFD या AC Drive का अनुप्रयोग

चर आवृत्ति ड्राइव (VFD) का उपयोग बहुत सारे क्षेत्रों में किया जा सकता है। चर आवृत्ति ड्राइव का उपयोग व्यापक रूप से एसी मोटर्स की गति को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है, जैसे कि कन्वेयर सिस्टम, ब्लोअर स्पीड, पंप स्पीड, मशीन टूल स्पीड, और अन्य एप्लिकेशन जो वेरिएबल टॉर्क के साथ चर गति की आवश्यकता होती है।

आइये अब समझते है की हमें कितने HP की चक्की को चलने के लिए कोनसी VFD खरीदनी चाहिए |

निष्कर्ष
बिजली के बिल से बचने व लाइट कटोती से बचने के लिए आप VFD व सोलर की सहायता से चक्की चला सकते है |

यह ब्लॉग सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से है टेक मेवाड़ी टीम किसी भी तरह के प्रोडक्ट नही बेचती है आप पास के सोलर एक्सपर्ट से बात कर अपने आटा चक्की के लिए सोलर सिस्टम लगवा सकते है ||

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: