अब सोलर पैनल दोनो साइड से बिजली बनायेगा | bifacial solar panels in India |Tech Mewadi

What are bifacial solar modules?

साथियों आपने बाईफेसियल सोलर पैनल के बारे में तो सुना ही होगा | यह सोलर पैनल प्लेट के दोनों और से बिजली बनाता है | साथियों बाईफेसियल सोलर के नाम पर लोगो को बाज़ार में काफी लूटा जा रहा है | पहले लोगो को बाईफसियल सोलर पैनल के नाम पर ज्यादा पैसे लेकर ख़राब क्वालिटी के सोलर पैनल दे दिए जाते है | फिर वे सोलर पैनल पूरी बिजली उत्पादन नही करते है | फिर जब लोग इसकी शिकायत कम्पनी से करते है, तो कम्पनी उनसे ऐसे ऐसे सवाल करती है, जिससे ग्राहक खुद असमंझस में आ जाता है | जैसे वे पूछते है, कि आपको कैसे पता कि सोलर की पीछे की साइड काम नही कर रही है, क्या आपने सोलर के पीछे की साइड की वाइट कोटिंग करवा ररखी है, क्या आपके सोलर का स्ट्रक्चर सही से लगा हुआ है, ऐसे कई गुमराह करने वाले सवाल पूछ कर आम जनता को इतना कंफ्यूज कर दिया जाता है कि वे सोचते है कि शायद इसी कारण से हमारा बाईफेसियल सोलर पैनल काम नही कर रहा है | क्योंकी लोगो को इसका पूरा नॉलेज नही होता है तथा पैनल के अन्दर ऐसा कोई भी ऑप्शन आपको नही मिलता है जिससे आप इसकी मोनिटरिंग कर सके | क्योंकी दोनों साइड की बिजली का आउटपुट आपको मिक्स ही मिलता है या अलग अलग आउटपुट नहीं मिलता है | तो आप कभी भी ये पता नही कर सकते है कि आगे कि साइड से ज्यादा बिजली बन रही है या पीछे कि साइड से हमें कितनी बिजली प्राप्त हो रही है |

तो साथियों आज हम इस आर्टिकल में बात करेंगे कि बाईफेसियल सोलर पैनल खरीदते वक़्त आपको किन मुख्य 5 बातोँ का ध्यान रखना है ?

बाईफेसियल सोलर पैनल क्या होता है ?

साथियों बाईफेसियल जैसा कि नाम से पता चलता है कि ये सोलर पैनल दो फेस (दो मुखी) वाला होता है | ये दोनों और से बिजली बनाता है, जिससे हमें ज्यादा बिजली मिलती है | साथियों इसके पैनल में डबल सेल नहीं लगाये जाते है बल्कि उनके स्थान पर ऐसे विशेष सेल लगाते है जिससे वे दोनों और से बिजली पैदा कर सकते है |

सामान्य सोलर पैनल के पीछे कि साइड पर वाइट कलर की PVC शीट होती है, उसकी जगह इसमें पारदर्शी ग्लास या पारदर्शी PVC शीट लगा दी जाती है जिससे ये दोनों ओर से बिजली बनाता है |

बाईफेसियल सोलर पैनल कैसे काम करता है ?

साथियों सामान्य सोलर पैनल में जब सूरज की किरणें जब सोलर के सेल पर गिरती है वह ज्यादा से ज्यादा किरणों को अवशोषित कर लेता है तथा तो उसके पीछे लगी वाइट PVC के कारण बाकि अतिरिक्त किरणें परावर्तित हो जाती है | जब बाईफेसियल सोलर पैनल के सेल पर सूरज की किरणें गिरती है तो वे परावर्तित न होकर पार निकल जाती है | और उसके बाद वे आपके छत या जमीन से परावर्तित होकर वापस सोलर पैनल के पीछे की साइड टकराती है जिससे पैनल अवशोषित कर बिजली बनाता है | यहाँ यह सोलर के आगे कि साइड के मुकाबले 25% तक बिजली पीछे की साइड से बनाता है | इसके पीछे कि साइड का बिजली उत्पादन इस बात पर निर्भर करता है कि आपने जिस जगह पर सोलर लगवाया है वहाँ वाइट सीमेंट का फ्लोर है, सामान्य सीमेंट का, या फिर जमीन है |

बाईफेसियल सोलर पैनल के उपयोग

साथियों बाईफेसियल सोलर पैनल वेसे तो हर कोई लगवा सकता है लेकिन यहाँ हम इसके कुछ खास उपयोग बता रहे है | यह निम्न जगहों लगाया जाता है |

यह फार्म हॉउस , गार्डन , रेस्टोरेंट , घरो में दरवाजे के आगे की जगह पर टिन शेड लगवाते थे, वही पर अब लोग उनकी जगह सोलर पैनल लगवा रहे है जिससे उनके घर को अलग प्रकार की क्रियेटिविटी का शानदार लुक मिल जाता है, तथा उनको फ्री इलेक्ट्रीसिटी भी मिल जाती है | जिससे वे उनके गार्डन के पौधो के पानी के लिए मोटर चला सकते है |

अब तो किसान साथियों द्वारा भी खेतो के अन्दर बाईफेसियल सोलर पैनल लगाये जा रहे है, क्योंकी इन्हें ऊंचाई पर लगाते है, जिससे इसके आर पार रौशनी आती है जिससे उस जगह पर वे खेती भी कर सकते है | जबकि सामान्य सोलर पैनल में लगवाने वाली जगह का कोई यूज़ नही हो पाता है | इस कारण किसान बाईफेसियल सोलर पैनल काम में ले रहे है |

बाईफेसियल सोलर पैनल लगवाने में SCAM या घोटाला या आपके साथ धोखा

आज के समय में सोलर में धोखा धडी बहुत देखी जाती है | अगर आपको बाईफेसियल सोलर के बारे में पूरी जानकारी नही है तो ये सिर्फ आपके लिए एक डिजाइन का भाग बन कर रह जाएगा |

इससे आपको पूरी बिजली नही मिल पायेगी | आपको यह भी ध्यान देना है कि आप जो सोलर में इतनी बड़ी रकंम लगा रहे है उसकी पूरी उपयोगिता आप ले प् रहे है या नही |

अब आपको कुछ ऐसी बाते बताते है जिन्हें आपको सोलर खरीदते वक़्त ध्यान रखना है:-

सोलर सेल :

बाईफेसियल सोलर पैनल में जो सेल लगते है वे डबल सेल नही होते है बल्कि वह एक ही विशेष प्रकार का सेल ओता है जो दोनों तरफ से बिजली बनाता है | यानि अगर आगे की साइड में आपको 144 सेल दिखते है तो वही 144 सेल पीछे की साइड भी दिखंगे |

  • बाईफेसियल सोलर पैनल में आगे की साइड काले कलर की तथा पीछे की साइड नीले कलर की होगी |
  • इसमें आपके साथ धोखा इस तरह हो सकता है कि सामान्य सोलर पैनल के पीछे कि साइड पारदर्शी शीट लगा दी जाती है| तथा आपको लगता है कि ये बाईफेसियल सोलर पैनल है |
  • इस तरह इसमें सिर्फ आगे कि साइड से ही बिजली का उत्पादन होगा तथा पीछे की की साइड से हम वेसे भी इसका उत्पादन ज्ञात नही कर सकते है | तथा इससे पैनल कि कीमत में भी कोई ज्यादा फर्क देखने को नही मिलता है | और देखने में ऐसा लगता है कि ये बाईफेसियल सोलर पैनल है | और आपसे ज्यादा पैसे वसूले जा सकते है |
  • तथा बहुत सारे सोलर पैनल में आगे की साइड में मोनो तथा पीछे की साइड में पोलीक्रिस्टलाइन टेक्नोलॉजी वाले सोलर पैनल लगा दिए जाते है तथा आपको बोला जाता है कि यह बाईफेसियल सोलर पैनल है तथा ऐसे केस में आपको पीछे कि साइड से बिजली उत्पादन नही मिलता है |
चाइनीज सोलर :

कई सारी कम्पनियां चाइना से सोलर इम्पोर्ट करती है तथा इंडिया में बेचती है | ऐसे सोलर पैनल में आपको कम्पनी का लोगो नही देखने को मिलेगा या स्टीकर से चिपकाया हुआ मिलेगा | अगर ऐसे पैनल आप खरीदते है तो कभी चाइना से एक्सपोर्ट बंद हुआ तो कम्पनी बंद हो सकती है तथा आपको वारंटी में सर्विसिंग की समस्या आ सकती है | तो कोई भी सोलर पैनल आप ख़रीदे तो इस बात ध्यान रखे कि वह मेड इन इंडिया होना चाहिए | साथ ही उसके उपर BIS का लोगो तथा सर्टिफिकेट होना चाहिए |

साथ ही आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए कि टेक्निकल स्टीकर तथा जंक्शन बॉक्स पिछली साइड के उपर नहीं होना चाहिए नही तो पिछली साइड की पूरी स्ट्रिंग ढक जाएगी जिससे बिजली उत्पादन पूरा नही मिल पायेगा |

इसके साथ ही सोलर पैनल खरीदते वक़्त टेक्नोलॉजी का भी ध्यान रखना चाहिये |

मार्केट के अन्दर दो प्रकार कि टेक्नोलॉजी के सोलर पैनल उपलब्ध है,

  • मोनो पर्क बाईफिसियल सोलर पैनल, मोनो पर्क हाफ कट बाईफिसियल सोलर पैनल |
  • इसके साथ ही सोलर पैनल में आपको बस बार का भी ध्यान रखना चाहिए | सामान्यतया एक सोलर पैनल में 5 बस बार होती है, लेकिन मार्केट में एडवांस टेक्नोलॉजी के सोलर पैनल उपलब्ध है जिनमे 9 या 10 बस बार देखने को मिलगी | इनकी क्वालिटी तथा एफिसिएंसी नार्मल सोलर पैनल की तुलना में ज्यादा होती है |

बाईफेसियल सोलर पैनल कहां कितनी बिजली बनाता है

साथ ही जब आप सोलर पैनल ख़रीदे तो यह ध्यान रखे कि कई डीलर या रिटेलर यह कह के सोलर बेचते है कि पीछे की साइड से 40% तथा आगे कि साइड साइड से 60% बिजली उत्पादन होगा लेकिन ऐसा नही होता है, पीछे कि साइड से आपको केवल 25% बिजली उत्पादन ही मिल पता है | वो भी आप अगर सोलर इनस्टॉल करने वाली जगह पर वाइट कोटिंग करवाते हो तो आपको इतना उत्पादन मिल पाता है |

  • अगर आपने गार्डन, या फार्महाउस या ऐसी जगह जहाँ पर घास होती है वहाँ पर बाईफेसियल सोलर पैनल लगाये है तो पीछे कि साइड से आपको 10% उत्पादन ही मिल पायेगा |
  • अगर आप राजस्थान साइड से हो जहाँ पर बालू मिट्टी होती है, वहाँ पर बाईफेसियल सोलर इंस्टाल करवाते हो तो यह उत्पादन 15% के करीब होगा |
  • अगर आप साउथ इंडिया से है तथा अगर आप कही पानी के आस पास बाईफेसियल सोलर पैनल लगाते है तो पीछे कि साइड से आपको 7 से 10% तक अतिरिक्त उत्पादन मिलेगा |
  • यानि कि मोटे तौर पर कहे तो अगर आपने प्रॉपर इंस्टालेशन करवाया है तथा आपका स्ट्रक्चर सही है, आपने वाइट कोटिंग करवा रखी है तो आपको 20 से 25% तक पीछे की साइड से बिजली उत्पादन मिलता है |

आगे कि साइड का बिजली उत्पादन सामान्य सोलर तथा बाईफेसियल सोलर पैनल में सामान रहता है |

आसान भाषा में समझने के लिए यह विडियो देखे

तो साथियों इस आर्टिकल का मकसद यही है कि आप तक सटीक तथा सही जानकारी पहुंचे तथा आपके साथ किसी तरह की धोखाधड़ी न हो,

धन्यवाद |

टेक मेवाड़ी टीम

यह जानकारी भी आपके काम की

3 किलोवाट सोलर पैनल की कीमत 3 Kw Solar System Price in India 2021….

घर के लिए सोलर,इन्वर्टर, बैटरी कितना चाहिए !! Required Solar Panel for home !!

जाने घरो पर सोलर पैनल लगाने का सही समय कौनसा है? Tech Mewadi

खेती के लिए सौर उर्जा लगवाने का खर्चा कितना आता है

PM Kusum Yojana : जानें क्या है PM कुसुम योजना ? 90 % सब्सिडी पर लगवाये सोलर फर्जीवाड़ा से सावधान !!

घर पर शुद्ध ऑर्गेनिक तेल निकालने की घाणी, निकाल सकते है 12 से भी ज्यादा तिलहनी फसलो का तेल

सौर उर्जा कृषि पंप के 10 फायदे

खेती के लिए सोलर तकनिकी केसे आई जाने टेक मेवाड़ी के साथ !!

मोनोक्रिस्टलाइन (Monocrystalline) Vs पॉलीक्रिस्टलाइन (Polycrystalline)

घर के लिए सोलर सिस्टम में क्या क्या खरीदना जरुरी होता है

सोलर सिस्टम क्या होता है जाने टेक मेवाड़ी के साथ ? what is solar system ? ?

2 किलोवाट AC मोड्यूल सोलर सिस्टम से चलाये AC, गीजर, कूलर, चक्की, पानी पंप एव घर का पूरा लोड कैसे ? जाने टेक मेवाड़ी के साथ

2 Comments

  1. Mukesh bodanisays:

    Jजरूरी जानकारी मिली बहोत बहोत धन्यवाद,🇳🇵🙏जय माताजी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: