कौनसा तेल खाना चाहिए रिफाइन या कच्ची घाणी तेल !

तेल एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जो हर घर में प्रयुक्त होता है | इसके बिना हम खाना बनाने के बारे
में सोच भी नहीं सकते है | चाहे वह सब्जी बनाने में इसका उपयोग हो या या कोई और व्यंजन
बनाने में | हम तेल का उपयोग खाना बनाने के लिए हमेशा करते है |


अब बात यहाँ पर आती है कि हम कौनसा तेल खाए जिससे हमारे शरीर को कोई नुकसान न पहुंचे
तथा हम एक स्वस्थ जीवनयापन कर पाए | यहाँ हम तेल के उपयोग के बारे में जानकारी देने वाले
है |


रिफाइंड तेल


रिफाइंड ऑइल बाज़ार में मिलने वाल खाद्य तेल होता है जो हम सुपर मार्केट या राशन की
दुकान से खरीद कर लाते है | यह तेल केमिकल रिफाइंड तेल होता है जो विभिन्न प्रकार के
केमिकल्स को मिलाकर बनाया जाता है | जैसा की इस पर लिखा होता है कि डबल रिफाइंड ऑइल |
इस तेल को खाने से हमारे शरीर में बेड कोलेस्ट्रोल बढ़ता है | तथा धीरे धीरे हमारे शरीर में दिल की
नलियाँ ब्लोक होने लगती है | इससे हार्ट अटेक, ब्रेन स्ट्रोक आदि बीमारियाँ हो जाती है |

कच्ची घाणी तेल


कच्ची घाणी तेल को पारंपरिक विधि से कोल्हू पर लगी मशीन से तैयार किया जाता है |
पुराने ज़माने में कोल्हू के साथ बैल को बांध कर घुमाया जाता था तथा अब इसकी जगह मशीन लगा
दी जाती है जिससे तेल आसानी से निकल जाता है |


इसमें कई प्रकार के तेल होते है जैसे नारियल का तेल, पिली सरसों, काली सरसों, मूंगफली का तेल,
तिल का तेल, बादाम का तेल आदि |


डॉक्टर्स तथा हमारे वेद तथा शास्त्र भी यही कहते है कि हमें तेल को बदल बदल कर खाना चाहिए
यानि अलग अलग मौसम में अलग अलग तेल को खाना चाहिए | जैसे सर्दी के मौसम में हमें तिल
का तैल खाना चाहिए | वहीँ गर्मी के मौसम में नारियल का तेल खाना चाहिए | बारिश में मूंगफली
का तेल अच्छा रहता है |


इस तरह से सभी प्रकार तेलों के फायदे हमें मिलेंगे |

नारियल के तेल के विशेष फायदे होते है जैसे अगर हम एक चम्मच नारियल का तेल रोज खाते है
तो यह एनेर्जी बूस्टर का काम करता है जिससे हमारा शरीर उर्जावान बना रहता है | तथा इससे
कब्ज की समस्या भी दूर होती है | इससे शरीर के फोड़े फुंसियाँ भी पूरी तरह से ठीक हो जाती है |

नारियल के तेल से बालों के झड़ने की समस्या भी दूर हो जाती है |
कोड प्रेस ऑइल या कच्ची घाणी तेल फायदेमंद कैसे है ?
कोड प्रेस ऑइल में ओमेगा फैटी एसिड अन सेचुरेटेड फॉर्म में होते है
जिससे वे बेड कोलेस्ट्रोल को शरीर में बढ़ने नहीं देते है | सेचुरेटेड फैट वाले ऑइल हमें नहीं खाना
चाहिए | कॉड प्रेस ऑइल हमारे शरीर में गुड कोलेस्ट्रोल को बढाता है | तथा हमें हार्ट अटेक,
अस्थमा कई बिमारियों से बचाता है |


इसका सीधा सा प्रमाण यह है कि हमारे बुजुर्ग या पूर्वज 100 वर्षो तक लम्बा जीवन बिना किसी
परेशानी के जीते थे क्योंकी वे हमेशा कोड प्रेस ऑइल को ही खाते थे | जबकि आज विभिन्न प्रकार
के रिफाइंड ऑइल खाकर भी इंसान की औसत आयु सिर्फ 60 साल रह गई है |


तो इसलिए अगर हम शुद्ध खायेंगे तो ही लम्बा जी सकते है | क्योंकी हमारे पुराने ज़माने के लोग
शुद्ध खाते थे इसलिए वे लम्बा जीवनयापन करते थे |

कई युवा भी पा सकते है रोजगार


आज के समय में बेरोजगारी बढती जा रही है, जिसकी वजह अधिकांश शिक्षित
बेरोजगारी की दर काफी ज्यादा है | इस कच्ची घाणी के तेल के बिजनेस को अपनाकर कई युवा
अपना करियर बना सकते है | वे कोड प्रेस ऑइल के फायदे लोगो को बता कर इसकी बिक्री कर
सकते है तथा काफी अच्छा मुनाफा भी कमा सकते है |

कीमत


कच्ची घाणी तेल की कीमते इसके कच्चे माल पर निर्भर करती है जैसे किसी वर्ष सरसों की
पैदावार अच्छी है या कम है उसके हिसाब से कोड प्रेस ऑइल की कीमते हमें बाज़ार में देखने को
मिलती है आप इस नंबर 7015576563 पर वाट्सऐप कर सकते है

धन्यवाद

टेक मेवाड़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: